थाना मोरवा में मेढ़ौली विस्थापितों के साथ एनसीएल प्रबंधन के हुई बैठक लेकिन समस्या का नहीं निकल पाया कोई हल।

लेटेस्ट खबरों को अपने Whatsapp पर पाने के लिए सबस्क्राइब करें

एनसीएल प्रबंधन द्वारा मेढ़ौली मुआवजा वितरण में लेटलतीफी हिला हवाली से विस्थापितों में आए दिन पनप रहा है आक्रोश।

(फणीन्द्र कुमार सिन्हा)

सिंगरौली कार्यालय

सिंगरौली। एनसीएल द्वारा जयंत खदान विस्तार के लिए मेढ़ौली भूमि अधिग्रहण में मुआवजा वितरण पुनर्वास एवं नौकरी के संबंध में प्रबंधन द्वारा लेटलतीफी हीलाहवाली करने के कारण विस्थापितों के द्वारा आए दिन हड़ताल तो चक्का जाम करना पड़ता हैं अपनी मांगों को प्रबंधन तक पहुचाने के लिए उसी कड़ी में कल शाम मढौली में चक्काजाम के बाद आज विस्थापितों का प्रतिनिधि ने मोरवा थाने में एसडीओपी डॉक्टर कृपाशंकर द्विवेदी एवं नगर निरीक्षक नरेंद्र प्रताप सिंह के समक्ष एनसीएल प्रबंधन के साथ बैठक की गई बैठक का मुख्य उद्देश्य विस्थापितों को अति शीघ्र मुआवजा प्रदान करना एवं उनके पुनर्वास एवं भूमि के बदले दी जाने वाली नौकरी की कार्यवाही तुरंत करना था घंटों चली इस मंत्रणा में विस्थापित नेता कुंदन पाण्डेय द्वारा कहा गया की मुआवजा वितरण की कार्रवाई मकान नंबर के अनुसार सीरियल वाइज से की जाए। साथ ही जिन लोगों को भूमि के बदले नौकरी देने का प्रावधान है उसकी कार्रवाई तुरंत किया जाए अन्यथा सभी लोग अनशन करने को बाध्य हो जाएंगे बैठक में एनसीएल द्वारा उपस्थित जयंत परियोजना के जीएम संजय मिश्रा द्वारा आश्वस्त किया गया कि मकानों का मुआवजा जल्दी वितरण शुरू कर दिया जाएगा, साथ ही उन्होंने कहा कि मुआवजा का वितरण जयंत माइंस से लगी भूमि पर बने मकानों का पहले किया जाएगा। उसके बाद धीरे-धीरे आगे बढ़ते हुए समस्त अधिग्रहित की गई भूमियों पर बने मकानो का मुआवजा वितरण किया जाएगा। एनसीएल प्रबंधन की तरफ से महाप्रबंधक कार्मिक चार्ल्स जस्टर द्वारा विस्थापितों को एक कमेटी बनाने का सुझाव दिया, जिससे समय-समय पर कमेटी के साथ बैठक कर किए जा रहे मुआवजा वितरण की कार्रवाई से विस्थापितों को अवगत कराया जा सके। साथ ही उन्होंने वहां मौजूद लोगों को आश्वस्त कराया की एनसीएल द्वारा सभी विस्थापितों को उसका हक दिया जाएगा बैठक में सैकड़ों की तादाद में विस्थापित एवं ग्रामीण उपस्थित रहे।