पवार कांग्रेस में नहीं जा सकते, कांग्रेस चाहे तो राकांपा में कर सकती है विलय : मेमन

लेटेस्ट खबरों को अपने Whatsapp पर पाने के लिए सबस्क्राइब करें

यूट्यूब पर वीडियो देखने के क्लिक करे सब्सक्राइब करे!

पुणेराष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के वरिष्ठ नेता माजिद मेमन ने कहा सुशील शिंदे वरिष्ठ और सुलझे हुए राजनेता हैं, लेकिन उनका यह बयान ठीक नहीं है कि राकांपा का कांग्रेस में विलय होने जा रहा है। उन्होंने कहा राकांपा का कांग्रेस में किसी भी कीमत पर विलय नहीं हो रहा है।
माजिद मेमन ने कहा शरद पवार अपना अस्तित्व बिल्कुल नहीं खोना चाहते। अगर कांग्रेस राकांपा में अपना विलय करना चाहती है, तो उसका स्वागत है। माजिद मेमन ने कहा राकांपा का कांग्रेस में विलय किसी भी कीमत पर नहीं हो सकता है।
वहीं, सुशील शिंदे के बयान पर शिवसेना प्रवक्ता मनीषा कायन्डे ने कहा कि दो राज्यों में विधानसभा चुनाव हैं और राहुल गांधी कहीं नजर ही नहीं आ रहे। शिवसेना-भाजपा सरकार ने जिस तरह काम किया है। उससे कांग्रेस को अपनी हार साफ दिखने लगी है। कांग्रेस-राकांपा का विलय होता है तो भी शिवसेना को कोई फर्क नही पड़ने वाला है। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा था कि उनकी पार्टी और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) भविष्य में साथ आएंगे। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि वह और राकांपा अध्यक्ष शरद पवार एक ही पेड़ (कांग्रेस) के नीचे बड़े हुए हैं, हालांकि पवार खुलेआम इस पर बात नहीं करते हैं।
पश्चिमी महाराष्ट्र से सोलापुर में एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए शिंदे ने कहा भले ही कांग्रेस और राकांपा दो अलग-अलग पार्टियां हैं, लेकिन आज मैं आपसे कहना चाहता हूं कि भविष्य में हम एक-दूसरे के करीब आएंगे। क्योंकि अब शरद पवार भी थक गए हैं और हम भी थक गए हैं। ज्ञात हो कि राकांपा प्रमुख पवार ने मई 1999 में कांग्रेस से नाता तोड़कर राष्ट्रवादी कांग्रेस की स्थापना की थी।