मारपीट के आरोपियों को सजा एवं जुर्माना

लेटेस्ट खबरों को अपने Whatsapp पर पाने के लिए सबस्क्राइब करें

 

सीधी माननीय न्यायालय न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी सीधी ने आरोपीगण बृजमोहन उर्फ लाली साकेत पिता सरस्वती साकेत उम्र-24 वर्ष निवासी मौहरिया सीधी, रामबहोर उर्फ राजबहोर पिता सरस्वती साकेत उम्र-26 वर्ष निवासी मौहरिया सीधी, राजलाल उर्फ शिवबहोर पिता सरस्वती साकेत उम्र-27 वर्ष निवासी मौहरिया सीधी एवं बब्लू साकेत पिता सरस्वती साकेत उम्र-28 वर्ष निवासी मौहरिया सीधी थाना

 

 

कोतवाली जिला सीधी को धारा 323/34 में 1000-1000 रूपए अर्थदंड एवं न्यायालय उठने तक की सजा से दंडित किया गया। म.प्र. शासन की ओर से पुलिस का पक्ष सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्रीमती आदर्श सिंह सोलंकी द्वारा रखा गया।

 

प्रकरण का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है कि फरियादी ने थाना कोतवाली में इस आशय की रिपोर्ट लेख कराई कि मैं ग्राम मौहरिया का रहने वाला हूँ। मजदूरी करता हूँ। दिनांक 12.07.16 के सुबह करीब 9 बजे की बात है। मैं अपने चाचा दशरथ साकेत के घर तरफ घूमने गया था कि बब्लू साकेत बगैरह ने जमीन विवाद को लेकर मुझे मां-बहन की गंदी-गंदी गालियां देने लगे। तब मैंने गाली देने से मना किया तो बब्लू साकेत फरसी से एवं राजबहोर, राजलाल साकेत लाठियों से मुझे मारपीट करने लगे, जिससे मुझे सिर में दाईं ओर दाहिने हाथ बाईं आरे पसली में पीठ में दाहिने पैर में चोट आई है।

 

मैंने हल्ला गुहार किया तो रामश्रय साकेत, राजू साकेत आ गए, जिन्होंने बचाया तो बब्लू साकेत बगैरा मां की गाली देकर बोले कि आज तो बच गया है दुबारा जान से खत्म कर देंगे।  फरियादी की शिकायत पर थाना कोतवाली में अ.क्र. 600/16 भादवि की धारा 254,323,506,34 के अंतर्गत अपराध पंजीबंद्ध कर एफ.आई.आर. लेख किया गया। विवेचना उपरान्त अभियोग पत्र माननीय न्यायालय सीधी में पेश किया गया

 

 

जिसके न्यायालयीन प्रकरण क्र. 773/16 में शासन की ओर से सशक्त पैरवी करते एडीपीओ श्रीमती आदर्श सिंह सोलंकी ने आरोपीगण को दोषी प्रमाणित कराया। परिणामस्वरूप माननीय न्यायालय न्याययिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी सीधी ने सभी आरोपीगण को धारा 323/34 के अंतर्गत न्यायालय उठने तक की सजा एवं 1000-1000 रूपए के अर्थदण्ड से दण्डित किया।