ऊर्जाचंल युवा मंच के तत्वाधान में अनपरा के विकाश को लेकर हुआ बैठक सोनभद्र का सोना, अनपरा बनकर रह गया एक कालीमाटी।

238
लेटेस्ट खबरों को अपने Whatsapp पर पाने के लिए सबस्क्राइब करें

(फणीन्द्र कुमार सिन्हा)

सिंगरौली/सोनभद्र।

कौटिल्य अपने अर्थशास्त्र में अनपरा के आर्थिक और विकास तंत्र पर विवेचना करते तो यही कहते हैं समझ नहीं आता राज्य सरकार या प्रशासन की सेवा और शासन का गुड़िया रहस्य “गैरों पे करम अपनो पे सितम, ए जाने वफा क्या कहिये ?
25000 से ज्यादा तीसरे कि शहरों 50000 से ऊपर की 30 गांव को ग्राम पंचायत तंत्र से नगरपालिका में स्थानांतरण रूपांतरण किए साल से ऊपर हो गया लेकिन यह विंध्य क्षेत्र विंध्य पर्वत के तरह ज्यों का त्यों खड़ा है तारीफ है कि 10000 करोड़ से ज्यादा का योगदान करने वाला ऊर्जांचल क्षेत्र आर्थिक तंत्र का धमनी होते हुए भी गुरबत्ती के गुबार में अस्ताचल हुआ पड़ा है मात्र 5 स्कूल कॉलेज एक नहीं एक था ना 30 गांव 50 से 75000 की आबादी शून्य नगरपालिका योजना नगर गांव के नल नाली को पोका सड़क रोड हाईवे पर एवं स्वच्छ जल का भाव उदासीन सरकारी प्रभारियों के शूज ख्याल क्रियाशीलता मैं जंग हे इस अनपरा क्षेत्र का पर्याय बन गया है आश्चर्य होगा जानकर कि सरकारी मदनी मयूर पुर ब्लाक में भी नगर पंचायत विकास योजना में महज 375000 आए 1000 गतिविधियां और एजुएट 862 हुई और प्रमुख ब्यय ग्राम पंचायत भवन पर 30,000 हुआ यह उत्तर प्रदेश सरकार के पंचायती राज वेबसाइट के आंकड़े हैं कौन सी योजना है,ये क्या मजाक है,ये ग्राम पंचायत विकास योजना और फंड की बात कर रहे हैं? ऐसा भद्दा मजाक कलंक नहीं तो क्या है? आखिर प्रशासन क्या चाहती है की प्रलय काल तक अनपरा से 50 किलोमीटर राबर्ट्सगंज 5 घंटे में और 60 किलोमीटर दूर दुद्धी 4 घंटे में तय करें स्थानीय सड़कों पर निकले ही नहीं नल नाली और गंदगी का अप्रीतम आनंद ले रहे हैं? अनपरा,औडी,परासी,डिबुलगंज, आशिक,नकटी, ककरी, रेहटा बजरंगनगर परीक्षेत्र को किसी दुर्वासा मुनि ने अभीशप्त तो नहीं किया हैं कि नरकनगरी बनी रहे। स्ट्रीट लाइट का पता नहीं प्रदूषण का नरक है, और योजना के लिए राशि के नाम पर कुछ नहीं। आखिर जनमानस में उबाल आना स्वाभाविक है। सक्रियता कारगरता प्रतिबद्धता योजना राशि उपलब्धता और इच्छाशक्ति ईमानदारी से एक साथ क्रियारत होना ही विकल्प है- “दस्तूर भी है,मौका भी है और तकाजा भी।”गवर्नस न की गवमेंटेलिटी”, इस मोदी योगी महामंत्र को जमीनी जामा पहनना नितांत आवश्यक है कहीं देर ना हो- जाए