राहुल गांधी को कमतर आंकाने वाले खुद पहले आत्मनिरीक्षण करे: अधीर रंजन चौधरी

लेटेस्ट खबरों को अपने Whatsapp पर पाने के लिए सबस्क्राइब करें

नई दिल्ली कांग्रेस पार्टी में जारी आपसी कलह अभी तक खत्म नहीं हुई है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल के बाद गुलाम नबी आजाद ने एक बार फिर पार्टी के हालात पर सवाल खड़े करें है। जिसके बाद कई पार्टी नेताओं द्वारा उन्हें जवाब दिया जा रहा है। इसी कड़ी में लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने गुलाम नबी आजाद के बयान पर कहा कि इस तरह सिर्फ राहुल गांधी पर निशाना साधना और हार के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराने से कुछ नहीं होगा। इन नेताओं को आइना देखना चाहिए और आत्मनिरीक्षण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि ये नेता इस तरह मीडिया में बयानबाजी क्यों कर रहे हैं, पार्टी के सेशन का इंतजार क्यों नहीं हो रहा है

 

जहां सभी के सामने बात की जा सके। अधीर रंजन ने कहा कि अगर बिहार में हार को लेकर कुछ कहना है, तब इन नेताओं को सही वक्त का इंतजार करना चाहिए। इस तरह चुनाव नतीजों पर नमक छिड़कने से कुछ लोगों को आनंद लेने का मौका मिलता है।  अधीर रंजन चौधरी ने लगातार हो रही बयानबाजी पर कहा कि कांग्रेस पार्टी में एक कल्चर है, ये नेता आज जिस पद पर हैं, उसी कल्चर की वजह से हैं। इसकारण उसी दल को निशाने पर नहीं लेना चाहिए। बिहार के नतीजों का असर बंगाल में पड़ने पर अधीर रंजन ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में बंगाल में कांग्रेस पार्टी ने गठबंधन में सबसे बेहतर प्रदर्शन किया था,इसकारण बंगाल को बिहार से नहीं जोड़ा जा सकता है। बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव और अन्य राज्यों में हुए उपचुनावों के बाद लगातार कांग्रेस पार्टी में इस तरह की बयानबाजी तेज हुई है। पहले कपिल सिब्बल ने कहा कि पार्टी में संवाद की कमी है और हार पर मंथन नहीं हो रहा है। फिर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पार्टी अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही है, चुनाव में हार से हम सभी चिंतित हैं। हमारे लोगों का जमीनी स्तर पर लोगों से संपर्क खत्म हो गया है।