कोरोना संक्रमण से सुरक्षा हेतु क्राइसिस मैनेजमेंट गुप की बैठक आयोजित -बैंक कोराना गाइडलाईन का सख्ती से पालन करे: कलेक्टर धनंजय सिंह

लेटेस्ट खबरों को अपने Whatsapp पर पाने के लिए सबस्क्राइब करें

होशंगाबाद वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए शनिवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में कलेक्टर धनंजय सिंह की अध्यक्षता में डिस्ट्रिक्ट क्राइसिस मैनेजमेंट गुप की बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिला पंचायत सीईओ मनोज सरियाम, एएसपी अवधेश प्रताप सिंह, एसडीएम भारती मेरावी, डिप्टी कलेक्टर मोहिनी शर्मा, सीएमएचओ डॉ. दिनेश कौशल सिवनीमालवा विधायक प्रेमशंकर वर्मा, डॉ अतुल सेठा, विधायक प्रतिनिधि नपा प्रकाश शिवहरे, मनोहर बढ़ानी, अमीन राइन, सहित अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे। बैठक में निर्णय लिया गया कि कोरोना संक्रमण से सुरक्षा हेतु महत्वपूर्ण फेस मास्क का प्रत्येक नागरिक द्वारा सार्वजनिक स्थलों पर अनिवार्यता उपयोग किया जाए तथा पालन नहीं करने वाले नागरिकों के विरुद्ध चालानी कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान कलेक्टर धनंजय सिंह ने निर्देशित किया कि सभी बैंक शाखाओं द्वारा कोरोना संक्रमण से सुरक्षा हेतु आवश्यक सावधानियों का सख्ती से पालन किया जाए। किसी भी प्रकार की लापरवाही पाए जाने पर संबंधित बैंक शाखा की जवाबदेयता होगी। बैंकों में वृद्धजनों की सुविधा हेतु उचित व्यवस्था की जाए। विवाह समारोह में शासन द्वारा जारी गाइडलाइन का अनिवार्य रूप से पालन किया जाए। इस दौरान शासन द्वारा जारी गाइडलाइन की विस्तार से जानकारी दी गई एवं कोरोना प्रसार के नियंत्रण हेतु सुझाव प्राप्त किए गए। बैठक में निर्णय लिया गया कि कोविड उपचार हेतु जरूरी जिले में तैयार आईसीयू के लिए एमडी डॉक्टर की व्यवस्था हेतु शीघ प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा।

 

कलेक्टर सिंह ने कहा कि जनप्रतिनिधियों, आमजन एवं प्रशासन के लगातार बेहतर प्रयासों से जिले में कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण किया गया है। साथ ही बाढ़ आपदा से निपटने एवं उपार्जन में भी बेहतर कार्य किया गया है। जिला पंचायत सीईओ मनोज सरियाम ने बताया कि शासन द्वारा जारी गाइडलाइन अनुसार कक्षा 1 से 8वीं तक के समस्त स्कूल आगामी आदेश तक बंद रहेंगे। कक्षा 9 से 12 के स्कूली छात्र-छात्राएं तथा कॉलेज के छात्र-छात्राएँ विभागों द्वारा जारी दिशानिर्देशो के अनुरूप गाइडेंस के लिए स्कूल, कॉलेज आ सकेंगे। उन्होंने बताया कि जिले में कोरोना नियंत्रण हेतु बेहतर मैनेजमेंट किया गया है। जिले में डीसीसीसी 24 घंटे सक्रिय है जिसके माध्यम से पॉजिटिव मरीजों की सतत मॉनिटरिंग की जा रही है।