पुलिस अधीक्षक एवं अपर कलेक्टर द्वारा मेडिकल स्टोर्स का किया गया औचक निरीक्षण,वैध दस्तावेजों के बिना डिनेचर्ड स्पिरिट रखने पर होगी वैधानिक कार्यवाही…

297
लेटेस्ट खबरों को अपने Whatsapp पर पाने के लिए सबस्क्राइब करें

चिकित्सक के प्रिस्क्रिप्शन पर ही करें दवाइयों का वितरण


शनिवार को सीधी शहर में संचालित विभिन्न मेडिकल प्रतिष्ठानों पर पुलिस अधीक्षक पंकज कुमावत एवं अपर कलेक्टर हर्षल पंचोली के नेतृत्व में संयुक्त दल द्वारा औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान प्रतिष्ठानों में दवाइयों एवं स्पिरिट से संबंधित खरीदी बिक्री के दस्तावेजों की जांच की गई। दस्तावेजों के संधारण में कमियां पाए जाने पर संबंधित दुकान संचालकों को चेतावनी दी गई है। इसके साथ ही निर्देशित किया गया है कि वैध दस्तावेजों के होने पर ही डिनेचर्ड स्पिरिट की बिक्री की अनुमति होगी। इसके साथ ही चिकित्सक के प्रिस्क्रिप्शन पर ही दवाइयों के बिक्री के निर्देश दिए गए हैं। सभी दुकान संचालकों को निर्धारित किया गया है कि दुकान में दवाइयों के बिक्री के संबंध में रजिस्टर संधारित कर सभी आवश्यक विवरण दर्ज किए जाएं। पुलिस अधीक्षक ने स्पष्ट किया है कि अवैध एवं नशीली पदार्थों का विक्रय करते पाए जाने पर संबंधित मेडिकल दुकान संचालक के विरुद्ध कड़ी वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।

संयुक्त जांच दल द्वारा मनोज मेडिकल स्टोर, सिटी मेडिकल स्टोर, रामा फार्मा, शिव मेडिकल स्टोर, लक्ष्मी मेडिकल, गौरव मेडिकल आदि मेडिकल प्रतिष्ठानों की स्वास्थ्य अमले के साथ सघन जांच की गई। जांच के दौरान शिव मेडिकल से डिनेचर्ड स्प्रिट आईपी 500 की दो बोतलें और प्रैक्टिन टेबलेट और प्रतिष्ठान के पास भारी मात्रा में प्रतिबंधित कफ सिरप की खाली पड़ी बोतलें पाई गई। इसी प्रकार निरीक्षण के दौरान मनोज मेडिकल स्टोर से बिक्री की जा रही औषधियों का स्टॉक पंजी व विक्रय की गई दवाइयों के डॉक्टरी परामर्श का विवरण मांगे जाने पर प्रस्तुत नहीं कर सके। निरीक्षण के दौरान दवा विक्रेताओं द्वारा स्टॉक पंजी विक्रय की गई दवाइयों के डॉक्टरी परामर्श का विवरण व अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर व कफ सिरप आदि का वर्तमान स्टॉप वह वितरण का ब्यावरा संबंधित प्रतिष्ठानों द्वारा प्रस्तुत नहीं किया जा सका।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अंजुलता पटले, एसडीएम गोपद बनास नीलांबर मिश्र, तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार गोपद बनास सहित आबकारी, मेडिकल एवं पुलिस दल द्वारा निरीक्षण की कार्यवाही संपादित की गई।